Sep 21, 2022
98 Views
2 1

एकादशीकथा  व्रत कथा आखिर क्यो  एकादशी का व्रत भगवान विष्णु भगवान को प्रिय हैं।

Written by

हैप्पीनेस इंडिया के साथ देखिए  व्रत एकादशीकथा  व्रत कथा आखिर क्यो  एकादशी का व्रत भगवान विष्णु भगवान को प्रिय हैं।

इन्दिरा एकादशी व्रत कथा और पित्र पक्ष एकादशी
आश्विन माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि के दिन  एकादशी व्रत  रखा जाता है।इस साल इंदिरा एकादशी व्रत आज 21 सितंबर दिन बुधवार को है।
एक बार धर्मराज युधिष्ठिर ने भगवान श्रीकृष्ण से कहा कि आप मुझे आश्विन कृष्ण एकादशी व्रत के महत्व  के बारे में बताए । तब भगवान श्रीकृष्ण ने उनसे कहा कि इस व्रत को इंदिरा एकादशी व्रत के नाम से जानते हैं।
इस व्रत को करने से पुण्य प्राप्त होता है, पाप मिटते हैं, और पितरों को मोक्ष मिलता है।काशी के ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट से जानते हैं ।
व्रत कथा कुछ इस प्रकार है

तब नारद जी ने कहा कि वे एक दिन यमलोक गए थे। उन्होंने यमराज से मुलाकात की। उनकी प्रशंसा की। उस दौरान उन्होंने तुम्हारे पिता को देखा।

वे यम लोक में थे।नारद जी ने राजा इंद्रसेन को उसके पिता का संदेशा बताया।उसके पिता ने कहा था कि किसी कारणवश उनसे एकादशी व्रत में कोई विघ्न बाधा हो गई थी, जिसके फलस्वरूप उनको यम लोक में यमराज के पास समय व्यतीत करना पड़ रहा हैं  यदि तुम से संभव हो सके तो अपने पिता के लिए इंदिरा एकादशी व्रत करो।इससे वे यमलोक से मुक्त होकर स्वर्ग लोक में स्थान पा सकेंगे।

इस प्रकार व्रत की महिमा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *